fbpx

व्यायाम और योग - स्वस्थ जीवन की चाबी

4 |

हमारा जीवन व्यस्त है। शरीर को इसका असर सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। हम हर दिन बूढ़े हो रहे हैं और इसके साथ शरीर का भी क्षय होता है ।

इसका दोहरा प्रभाव पड़ता है। इससे शरीर और मन की ऊर्जा कम हो जाती है अगर शरीर ठीक न हो तो मन की स्थिति भी परेशानी महसूस करने लगती है। लेकिन अगर शरीर ठीक रहेगा तो हम परेशानियों का आराम से सामना कर सकते है। अगर शरीर है तो सब कुछ है। जो लोग बहस करना चाहते हैं कि आत्मा है या नहीं, उन्हें करने दें । हमारा शरीर है और यह अच्छा होना चाहिए इसमे बहस करने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है । फिर भी हम इस शरीर को अनदेखा करते हैं।

शरीर को एक वाहन की तो कभी मंदिर की उपमा दी जाती है । इसकी ठीक से देखभाल की जाए यह उसका उद्देश होता है । यदि वाहन खराब हो जाता है, तो आप वांछित स्थान पर नहीं जा पाएंगे। यहां आप किसी और के वाहन का भी इस्तेमाल नहीं कर सकते। और अगर मंदिर अशुद्ध है, तो न केवल देवता बल्कि भक्त भी वहां नहीं रहेंगे । ऐसा नहीं है कि हम इसके बारे में सब कुछ नहीं जानते लेकिन हमारा आलस बीच मे आता है ।

हमने खुद को इतना आलसी रखा है कि पूछ नहीं सकते और शरीर भी शिथिल होकर निकल जाता है। समय के साथ,इसकेविनाशकारी परिणाम होने लगते हैं। डायबिटीज, हाइपरटेंशन, दिल की बीमारी, तनाव, चिड़चिड़ापन, जी मिचलाना, कब्ज और बहुत सारी बीमारियां शरीर में कब रहने लगती हैं पता ही नहीं चलता। खैर, वे इतने बेशर्म किरायेदार हैं कि वे अपने शरीर को छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं चाहे कुछ भी करें।

उन्हें रोकने का एकमात्र तरीका यह है कि उन्हें पहले से नो-एंट्री का बोर्ड दिखाया जाए। हमारे शरीर कोई धरामशाला नहीं हैं जो कोई भी कभी भी आए, इसके लिए आपको चौकीदार रखने होंगे । वे शरीर में ही हैं। लेकिन हम उन्हें अनदेखा करते हैं। लेकिन अब हमें उनकी मदद लेनी होगी। उन्हें जागना होगा। क्योंकि आपने उन्हें लाड़-प्यार दिया है। उन्हें अपनी सुस्ती और मस्ती को दूर करने के लिए अपने शरीर को काम पर लगाना पड़ता है।

यह काम योग अभ्यास और व्यायाम है। व्यायाम का नाम निकालते ही कई लोगों के मुंह झुक जाते हैं ,टेढ़े हो जाते है हमारे पास समय नहीं है, अब इस उम्र में कैसे व्यायाम करेंगे ऐसे कई खूबसूरत कारणों को ढूंढकर खूद को ही राहत दी जाती है।

जो कोई भी व्यायाम करना चाहता है वह करता ही है। कभी-कभी समय नहीं या फिर हमसे होता नहीं ऐसा न कर पाने के कारण जरूरी नहीं कि झूठे हों। व्यायाम शुरू करने के लिए आसान व्यायाम के साथ शुरू करें। और शरीर को इसकी आदत डालें। फिर इसकी तीव्रता बढ़ाएं। फिर जब आप और आपका शरीर व्यायाम के आदी हो जाएंगे और तब अच्छे परिणाम देखने लगेंगे, तो आप अपने आप व्यायाम करना शुरू कर देंगे। वो जुनून अपने आप आ जाता है।

अब, ये सरल और आसान व्यायाम क्या हो सकते हैं? छोटे कार्यों के लिए कार का उपयोग करने से बचें, यहां तक कि निकट स्थानों के लिए भी कार का उपयोग न करे । यह पेट्रोल बचाएगा, पैसे बचाएगा और व्यायाम भी हो जाएगा। पैदल या साइकिल का उपयोग करें। घर में गाड़ी न हो तो भी ठीक है, लेकिन साइकिल जरूर चाहिए। सुबह या शाम को कम से कम चार-पांच बार होम सोसायटी की सीढ़ियों का उपयोग करना चाहिए । हर बार लिफ्ट का उपयोग न करें। यदि घुटनों में दर्द होता है, तो मालिश करें। डॉक्टर से सलाह लें। फोन पर बात करते हुए चलें। एक जगह पर न बैठें। यदि आप बैठे हैं और काम कर रहे हैं, तो आधे घंटे बाद खड़े हों जाए , अपने हाथ और पैर हिलाएं। अपने साथ एक दोस्त ले लो। सिर्फ चैट मत करो। योग करें, सूर्य नमस्कार करें। मोबाइल टीवी को थोड़ा आराम दें। इससे आपकी आंख, कान, जीभ, हाथ, दिमाग को भी अपने आप आराम मिल जाएगा। केवल कुछ व्यायाम करें जो शरीर के अधिक से अधिक हिस्सों का व्यायाम करेंगे। लेकिन नियमित करें। नियमितता सबसे महत्वपूर्ण है।

हम अमर नहीं हैं। हम ऐसे हमेशा युवा नहीं रहेंगे । हम हर दिन बूढ़े हो रहे हैं। लेकिन अगर आप इसका अनुकूलन करना चाहते हैं, तो उसकी उचित देखभाल करना बहुत महत्वपूर्ण है। आप अपने शरीर पर बाहरी परिवर्तन को देख सकते हैं। पर अंदर के बदलावों को समझ नहीं पा रहे है । वे केवल तभी महसूस करते हैं जब उन्हें स्ट्रोक होता है। उस समय के आने से पहले खुद पर नियंत्रण रखें। आप जो चाहें खाएं और पिएं, लेकिन नियंत्रण में। इसे अति मत करो। और अगर कोई चीज आपको परेशान कर रही है, तो उसका प्रलोभन छोड़ दें। जीवन में कुछ ऐसी चीजों को आजमाएं जिससे आपको भारी महसूस हो। दूसरों के लिए भी करें, खुद के लिए भी। शरीर प्रकृति का अद्भुत उपहार है। और हमें इसके लिए भुगतान नहीं करना पड़ा। उसके बिना हम कुछ नहीं कर सकते। उस शरीर का थोड़ा ख्याल रखें। इसके अलावा, वह और कुछ नहीं चाहता है।

योग करो स्वस्थ रहो।

आपके मधुमेह, बी.पी., थायराइड, इत्यादि जीवनशैली से संबंधित विकारोंके मूल कारण और प्राकृतिक उपचार को समझने के लिए आज ही हमारे आगामी निःशुल्क ऑनलाइन वर्कशॉप में शामिल हो जाईये | हमारी वेबसाइट पर जाकर अभी अपना नाम निःशुल्क दर्ज कीजिये | 👉🏼 https://drbhagyeshkulkarni.com/dff-free-webinar-hindi/

हमारे साथ स्वस्थ जीवन की ओर पहला कदम बढ़ाएं | नियमित अपडेट के लिए हमें फेसबुक, इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें!

हमारे मधुमेह कार्यक्रमों के बारे में अधिक जानने के लिए, हमारी वेबसाइट https://drbhagyeshculkarni.com पर जाएँ। किसी भी जानकारी के लिए कृपया हमें 9511218891 पर कॉल करें।

Open chat
1
We are available
Hello! How can i help you?